Ce diaporama a bien été signalé.
Nous utilisons votre profil LinkedIn et vos données d’activité pour vous proposer des publicités personnalisées et pertinentes. Vous pouvez changer vos préférences de publicités à tout moment.

Samaj par filmon ka Prabhav

9 859 vues

Publié le

Article on samaj par filmon ka Prabhav

Publié dans : Formation
  • Soyez le premier à commenter

  • Soyez le premier à aimer ceci

Samaj par filmon ka Prabhav

  1. 1. कु छ बाते चलती भागती िजनदगी मे यूँ होती है िक उनहे भुलाना मुिशकल होता है | हमारे आस पास जो भीघटता है ,हम उस से पभािवत होते है |िफलमे समाज का आईना होती है इस िवषय पर मतभेद हो सकते है पर कोई भी िफलम अपने वक और समाज सेकट कर नही बन सकती. जरा याद कीिजये अना के समथरन esa o fujHk;k ds fy, balkQ dh xqgkj yxkrs gq ,कै डल माचर का आइिडया ‘रं ग दे बसनती’ िफलम ने हमे िदया िक हाँ हम भी दुिनया बदल सकते है. हम अपनीिफलमो को भले ही बहत गमभीरता से न लेते हो लेिकन सामािजक पिरवतरन मे इनकी एक बडी भूिमका रही है.लोगो की मानिसकता बदल ne ka काम िफलमो के दारा बेहतरीन तरीके से होता है. हमारे समाज और उसमेहोने वाली घटनाएँ हमेशा िफलमो के के द मे रही है . आजादी से पहले जब छु आ छू त पर बात करना मुिशकल था‘अछू त कनया’ जैसी िफलम ने बडे साथरक तरीके से इस समसया को लोगो के सामने रखा लोगो मे जागरकता भीिफलम की ही देन है।िसनेमा समाज का आईना है तो समाज भी इस से कही भीतर तक जुडा हआ है |agar kaha jaye ki aajhamari personality films se hi prerit hai to galat nai hoga.. hamare kapde, bolchal, rehan-sahan, sab par films ka prabhav dikhta hai. युवाओ मे फै शन को िफलमो ने ही बढावा िदया है। आजका युवावगर िफलमी दुिनया की चमक-दमक मे सवयं के मूलयो व आदशो को खोता जा raha hai िफर इंसानीिफतरत जलदी से बुरी बातो को िदमाग मे िबठा लेती है | aaj kal ki filme sab logon ke liye nahihoti hai .िहसा, अशीलता इतयािद की भरभार के कारण युवा इससे पभािवत हए है।हमे चािहए िक ऐसी िफलमे देखे जो हमारे जान को बढाएँ और अचछी बाते िसखाएँ। िफलमो का िवषय केतिवशाल है इसिलए इसके पभाव भी बहत ही सशक होता है।

×