Ce diaporama a bien été signalé.
Nous utilisons votre profil LinkedIn et vos données d’activité pour vous proposer des publicités personnalisées et pertinentes. Vous pouvez changer vos préférences de publicités à tout moment.

हिन्दी हैं हम

347 vues

Publié le

Describes the issue in one south Indian state regarding Hindi Imposition

  • Identifiez-vous pour voir les commentaires

हिन्दी हैं हम

  1. 1. हिन्दी िैं िम  शान्ता शमाा श्रावण म माक ा कािावण ा हद स का ि ा कमथ ा य थन्तवण तम मे े दम र िे े य र के कमाद्री िवण ा शीतलता लल अ े मंद-मंद झों ों के स् ा -स् ा खड़े ेड़ों े त्तों ो छेड़ते िा रल्ललकत िो ि िी ी य इ टर थों न माम ाष् -ववण क्रे ताओं द्वण ा ा अ ी मााँ ी गोद के ृ ा ग अकिाथ काम अ ा हृदथ नछद जा े भी ा ल-मथाादा ी क्षा ते िा अंनतम कााँक त िाँकते- िाँकते अ ी कागं के वण ातावण म ो मि ा िे े य र ा ददा कमझ े े लल था र ी आिें का े े लल क्था क की े ाक कमथ िै ? कभी व्थस्त िैं य मे े ख्थाल के म ाष्थ ी कृष्ष्ट ते कमथ ववण ाता े था तो हृदथ ा स् ा र क्त छोड़ हदथा था आद्राता ोंछ डाली य आज े थाग ी दृष्ष्ट के मे ा र थााक्त चिन्त न ा िैस ागल िै य कि भी मै कोिती जा िी ी य इत े में आ ाशवण ामी के प्रकार त िो िेस क की े म ा स्वण के क े इक़ ाल ी शाथ ी ी न म ांक त ंष्क्त मे े ा ों में प्रववण ष्ट िाई – “हिन्दी िैं िमस वण त िै हिन्दोस्तां िमा ा” माझे िाँकी आथी य म ाष्थ ी ल् ा क त ी ्था ी िै य थ ा ा र आदशा भी आ क में लमल क ते िैं? र थााक्त ंष्क्त ा अ ा ........................ ? िमा ा देश हिन्दास्ता िै य िमा ी भाषा – थि आज त प्रश् -चिह् ि गई िै य मा लक भावण र मष्स्तष् े ववण िा प्र ट े े लल म ाष्थ ो माध्थम ी आवण श्थ ता ड़ी य रक े भाषा कृज क था य रक कमथ रक े कोिा त िीं िोगा क आगे िल भाषा ो ले कमस्था खड़ी िोगी य अंग्रेज़ों े भा त आ े े िले भा त में भाषा-कमस्था ी क िीं ? – इक प्रश् ा रत्त िमें िीं लमलता िैय िो क ता िै शाक वण गा ी भाषा िी ाज-भाषा े द आकी ी क्थोंक अंग्रेज़ों ा ाज्थ ज भा त में स् ाव त िाआ त भा तीथों े अंग्रेज़ी भाषा ो अ ाथा य शाथद िी क की े अंग्रेज़ी भाषा कीख े े ववण रुद्ध आवण ाज़ रठाई िोगी य अ ी इच्छा केस अ ा अिोभाग्थ मा स िावण के कीखी िोगी य शीघ्र िी वण ि िमा े खू े का घाल-लमल गथी य माद्दत त वण ि ाज-भाषा े लकंिाक आकी िी य त क की भा तीथ ो अ ाात िमें अ े र अ ी भाषाओं े अ मा ा अ ाभवण िीं िाआ य तंतत के माक्त िो े े लल िम े अवण श्थ कंघषा क था य शाक - कूत अ े िा में ललथास स्वण तंत िो ग स्वण भाषा ो ाजभाषा ा े ा प्रथत् भी भूल भी क था ? ववण देशी भाषा ी अ ी तास िमा ी तंतता े प्रती के माक्त िो े े लल रद्थत िा ? दाव िीं य लेक क्थों ? िमा े भा त में िौदि के भी अच स्मृद्ध भाषा ाँ िैं य कि भी िमें थि स्वण ी ृ त िीं क िमा ी अ ी ोई भाषा ाजभाषा े द आकी िो य ष्जक भाषा ो ोल े र कमझ ेवण ालों ी कंख्था अच िो रक भाषा ो ाजभाषा ा द हदथा जाता िैय इक दृष्ष्ट के देखा जाथ तो भा त में हिन्दी ोल ेवण ालों ी कंख्था अन्थ भाषा-भावषथों ी कंख्था के अच िै य
  2. 2. प्राथ: कभी भाषा-भाषी हिन्दी कमझ लेते िैं य काहित्थ ी दृष्ष्ट के भी थि कमृद्ध िै य कि क्थों ा छ लोग इक ा ववण ो ते िैं ? इकमें क्था ाज़ िै ? स्वण देशी भाषा ो छोड़ ववण देशी भाषा ो अ ा े में रन्िें क्थों तृष््त लमलती िै ? इ प्रश् ों े रत्त े लल िमें ाज ीनत जा ी िोगी य भा त े स्वण तंत िोते िी भाषावण ा ाज्थों ी स् ा ा िो ी िाहि ी य त प्रांतीथ भाषा ाँ अ े-अ े प्रांतों में लशक्षा र शाक ा माध्थम गथी िोतीं य खै स िमें तो ाज ीनत े छड़े में िीं ड़ ा िै इकलल “ऐका क्थों िीं िाआ ?” इक प्रश् े रत्त प्र ाश िीं ड़ालेंगे य आगे िल भाषा ो ले िात रत् ात मिा य भाषा े प्रनत मोि-द्वण ेष ा रद्भवण भी िाआ य हिन्दीत भावषथों े म में ववण ष- ीज ोथा गथा क “हिन्दी थहद भा त ी ाजभाषास दूक े शब्दों में कं ा भाषा गथी तो प्रांतीथ भाषाओं ा ामोन शा लमट जा गा य वण े िी िीं ा ाँगी य हिन्दी रन्िें ाताल लो िााँिा देगीस ा िल ख देगी य इक े अलावण ा वण ि हिन्दी अभी शैशवण ावण स् ा में िैस ववण लकत िााँ िो ाथी िै ?” ज़ ा आ अंदाज़ लगाइ क इक ीज ा ववण ाक ै के िाआ िोगा य िााँस ीज के अं ा िू टास ौ ा रास ेड़ गथास अ लि ा िा िै ि ा-भ ा य अ ाात र थााक्त प्रिा आशातीत रू के किल िाआ य र माम ..... भाषा-भाषी दूक े भाषा-भाषी ो अ ी दृष्ष्ट में िी िींस म ी गि ाई त कंदेि भ देखता िै य भा त ी वण तामा भाषा-कमस्था ा मूल िै – अंग्रेज़ी य इक े ाथल हिन्दी ा ववण ो ते िैं य िमा े इनतिाक ी थि ववण शेषता र मित्ता िै क ज भी आ की िू ट ी चि गा ी के आग लगे तो ववण देशी ाझा े े लल ाला जाते िे य थिीं िमा ी ा ा ी ं ा िै र िमें ववण ाकत मे लमली िाई ववण भूनत िै य अत: हिन्दी े प्रनत द्वण ेष र ड़ लोगों े म में काथा जा िा ा िै य इक मत े अ ाका थि भ्रम रत् न् क था जा िा िै क े न्द्रीथ क ा ी ौ र थों े वण ल हिन्दी-भाषा भाषी िी छा िेंगे य भाषा े का ौ र थों ा कम न् टूट गथा तो कमझझ भाषा-कमस्था िी िीं िी य ज त भा त क की ववण देशी भाषा ा अच ा िेगा त त भा त े ववण लभन् भाषा-भाषी आज ी त ि लड़ते िी िेंगे आ क में य अ भी िमा े ाक कमथ िै थहद ववण वण े के ाम लेंगे तो य िमा े ीि ता िो े े ा म िमें ववण देशी भाषा े प्रभात्वण ो स्वण ी ा ा ड़ िा िै य थि वण ास्तववण ता िै य र ष्स् नतथााँ हद - -हद ब गड़ती िली जा िी िैं य इ ी अवण िेल ा े के भी ोई लाभ िोगा य न माथ ले ा िमा ा ाम िै य अ ी भाषा-कमस्था ा िल िमा े िा ों में िै य िम स्वण तंत िैंस अ े भाग्थ-ववण ाता िैंस िमा े देश े रत् ा - त र कममा -अ मा े रत्त दाथी िैं य इक वण क्त भी िम किेत िा तो िमा ी अ ी भाषा ाँ क्षीम ड़ े के ि क ती िैं य थि कत्थ िै क हिन्दी भाषा े ववण ाक र रक ी कमृवद्ध में हिन्दीत भावषथों ा अत्थंत मित्वण ूमा थोगदा िा िैस आशा िै आगे भी िेगा य तभी थि का ा िोगा – “ अ े ता में ता भा त ी ववण शेषता िै य र हिन्दी िैं िमस वण त िै हिन्दोस्तााँ िमा ा य”

×