Ce diaporama a bien été signalé.
Nous utilisons votre profil LinkedIn et vos données d’activité pour vous proposer des publicités personnalisées et pertinentes. Vous pouvez changer vos préférences de publicités à tout moment.
1
अब तो मज़हब कोई ऐसा भी चलाया जाए, जजसमे इंसान को इंसान
बनाया जाए : 'नीरज' की कविता
अब तो मज़हब कोई ऐसा भी चलाया जाए
जजसमें...
2
(ज़मज़म: मक्का में जस्ित क़ु एाँ का नाम जजसके जल को म़ुजस्लम उतना ही
पवित्र मानते है जैसे हहन्दू गंगा जल)
मेरा म़िसद है ये...
3
Jiski khusbu se mahak jaye pdosi ka bhi ghar
Phul es kisma ka har simt khilaya jaaye
Ab to mazhab koi aisa bhi chalaya j...
4
तेरे द़ुुःि और ददद का म़ुझपर भी हो ऐसा असर,
तू रहे भूिा तो म़ुझसे भी न िाया जाए
तेरी मंजज़ल को अगर रास्ता न मैं हदिला सकू...
5
Teri manzil ko agar rasta na main dikhla sakun,
mujhse bhi meri manzil, ko na paya jaaye.
Tere tapte sheesh ko gar, chha...
Prochain SlideShare
Chargement dans…5
×

अब तो मज़हब कोई ऐसा भी चलाया जाए गोपाल दास नीरज

2 078 vues

Publié le

Publié dans : Médias sociaux
  • Identifiez-vous pour voir les commentaires

अब तो मज़हब कोई ऐसा भी चलाया जाए गोपाल दास नीरज

  1. 1. 1 अब तो मज़हब कोई ऐसा भी चलाया जाए, जजसमे इंसान को इंसान बनाया जाए : 'नीरज' की कविता अब तो मज़हब कोई ऐसा भी चलाया जाए जजसमें इंसान को इंसान बनाया जाए, जजसकी ख़ुशबू से महक जाय पडोसी का भी घर फू ल इस क़िस्म का हर ससम्त खिलाया जाए अब तो मज़हब कोई ऐसा भी चलाया जाए.... आग बहती है यहााँ गंगा में ज़मज़म में भी कोई बतलाए कहााँ जाके नहाया जाए अब तो मज़हब कोई ऐसा भी चलाया जाए....
  2. 2. 2 (ज़मज़म: मक्का में जस्ित क़ु एाँ का नाम जजसके जल को म़ुजस्लम उतना ही पवित्र मानते है जैसे हहन्दू गंगा जल) मेरा म़िसद है ये महकिल रहे रौशन यूाँ ही िून चाहे मेरा दीपो में जलाया जाए अब तो मज़हब कोई ऐसा भी चलाया जाए.... प्यार का खून ह़ुआ क्यों ये समझने के सलए हर अाँधेरे को उजाले में ब़ुलाया जाए अब तो मज़हब कोई ऐसा भी चलाया जाए.... मेरे द़ुि-ददद का त़ुझ पर हो असर क़ु छ ऐसा मैं रहूाँ भूिा तो त़ुझसे भी न िाया जाए अब तो मज़हब कोई ऐसा भी चलाया जाए.... जजस्म दो होके भी हदल एक हों अपने ऐसे मेरा आाँस़ु तेरी पलकों से उठाया जाए अब तो मज़हब कोई ऐसा भी चलाया जाए.... गीत उन्मन है, ग़ज़ल च़ुप है, रूबाई है द़ुिी ऐसे माहौल में ‘नीरज’ को ब़ुलाया जाए अब तो मज़हब कोई ऐसा भी चलाया जाए.... --गोपाल दास नीरज Ab to mazhab koi aisa bhi chalaya jaaye Jisme insaan ko insaan banaya jaaye
  3. 3. 3 Jiski khusbu se mahak jaye pdosi ka bhi ghar Phul es kisma ka har simt khilaya jaaye Ab to mazhab koi aisa bhi chalaya jaaye Aag behti hai yahan, Ganga mein bhi Zamzam mein bhi Koi batlaaye kahan jaa ke nahaya jaaya Ab to mazhab koi aisa bhi chalaya jaaye... Mera maqsad hai yeh mehfil rahe roshan yunhi Khoon chahe mera deepon mein jalaya jaaye Ab to mazhab koi aisa bhi chalaya jaaye... Pyar ka khun huaa kyno ye samjhane ke liye Har andhre ko ujale me bulaya jaaye Ab to mazhab koi aisa bhi chalaya jaaye... Mere dukh-dard ka tujh par ho asar kuch aisa Main rahun bhookha to tujhse bhi naa khaya jaaye Ab to mazhab koi aisa bhi chalaya jaaye... Jism do ho ke bhi dil ek hon apne aise Mera aansun teri palkon se uthaya jaaye Ab to mazhab koi aisa bhi chalaya jaaye... Geet gumsum hai, ghazal chup hai, rubaayi bhi dukhi Aise maahaul mein 'Neeraj' ko bulaya jaaye Ab to mazhab koi aisa bhi chalaya jaaye... -- Gopal Das Neeraj काँ ही-काँ ही और पंजक्त भी जोडा गया है Knhi knhi aur pankti bhi joda gaya hai
  4. 4. 4 तेरे द़ुुःि और ददद का म़ुझपर भी हो ऐसा असर, तू रहे भूिा तो म़ुझसे भी न िाया जाए तेरी मंजज़ल को अगर रास्ता न मैं हदिला सकूाँ , म़ुझसे भी मेरी मंजज़ल, को न पाया जाए तेरे तपते शीश को गर, छााँि न हदिला सकूाँ , मेरे सर कक छांि से, सूरज सहा न जाए तेरे अरमानो को गर मैं, पंि न लगिा सकूाँ , मेरी आशाओं के पैरों से चला न जाए तेरे अंधधयारे घर में रोशन अगर न कर सकूाँ , मेरे आंगन के हदए से भी जला न जाए तेरे घािों को अगर मरहम से न सहला सकूाँ , मेरे नन्हे जख्म को बरसों भरा न जाए आग ब़ुझती है यहााँ, गंगा में भी झेलम में भी, कोई बतलाये कहााँ, जाकर नहाया जाए Tere dukh aur dard ka mujhpar bhi ho aisa asar, tu rahe bhukha to mujhse bhi na khaya jaaye.
  5. 5. 5 Teri manzil ko agar rasta na main dikhla sakun, mujhse bhi meri manzil, ko na paya jaaye. Tere tapte sheesh ko gar, chhanv na dikhla sakun, mere sar ki chanv se, sooraj saha na jaaye. Tere armaano ko gar main, pankh na lagava sakun, Meri aashaon ke pairon se chala na jaye. Tere andhiyare ghar mai roshan agar na kar sakun, mere angan ke diye se bhi jala na jaye. Tere ghavon ko agar marham se na sahla sakun, mere nanhe jakhm ko barson bhara na jaaye. Aag bujhti hai yahan, Ganga mein bhi Jhelum mein bhi, Koi batlaye kahan, jaakar nahaya jaaye. -provided by Tejasvi Anant

×