SlideShare une entreprise Scribd logo
1  sur  12
नाम : आदित्य ए दिल्लै
कक्षा : नौवीं 'ब’
रोल : 51
के न्द्रीय दवद्यालय कोयम्बटूर
संज्ञा
संज्ञा के भेद-
 व्यक्तिवाचक: राम, भारत, सूयय आक्तद।
 जाक्ततवाचक: बकरी, पहाड़, कं प्यूटर आक्तद।
 भाववाचक : ममता, बुढापा आक्तद।
संस्कृ त एवं संस्कृ त से उत्िन्द्न भाषाओंमें उस अव्यय या शब्ि को उिसर्ग कहते हैं जो कु छ शब्िों के आरंभ में
लर्कर उनके अर्थों का दवस्तार करता अर्थवा उनमें कोई दवशेषता उत्िन्द्न करता है। उिसर्ग = उिसृज् (त्यार्)
+ घञ्। जैसे - अ, अनु, अि, दव, आदि उिसर्ग है।
उपसर्य
उपसर्य और उनके अर्यबोध
 अदत-(आदिक्य) अदतशय, अदतरेक;
 अदि-(मुख्य) अदििदत, अध्यक्ष
 अदि-(वर) अध्ययन, अध्यािन
 अनु-(मार्ुन) अनुक्रम, अनुताि, अनुज;
 अनु-(प्रमाणें) अनुकरण, अनुमोिन.
 अि-(खालीं येणें) अिकषग, अिमान;
 अि-(दवरुद्ध होणें) अिकार, अिजय.
 अदि-(आवरण) अदििान = अच्छािन
 अदभ-(अदिक) अदभनंिन, अदभलाि
 अदभ-(जवळ) अदभमुख, अदभनय
 अदभ-(िुढें) अभ्युत्र्थान, अभ्युिय.
 अव-(खालीं) अवर्णना, अवतरण;
 अव-(अभाव, दवरूद्धता) अवकृ िा, अवर्ुण.
 आ-(िासून, ियंत) आकं ठ, आजन्द्म;
 दन-(अत्यंत) दनमग्न, दनबंि
 दन-(नकार) दनकामी, दनजोर.
 दनर्-(अभाव) दनरंजन, दनराषा
उदूय उपसर्य
 अल - दनदचित, अदन्द्तम – अलदविा
 कम - हीन, र्थोडा, अल्ि - कमदसन, कमअक्ल,
 खुश - श्रेष्ठता के अर्थग में - खुशबू, खुशनसीब, खुशदमजाज
 गैर - दनषेि - गैरहाद़िर गैरकानूनी
 िर - मध्य में - िरम्यान िरअसल
 ना - अभाव - नामुमदकन नामुराि नाकाम
 फ़ी - प्रदत - फ़ीसिी फ़ीआिमी
 ब - से, के , में, अनुसार - बनाम बिस्तूर
 बि - बुरा - बिनाम बिमाश बिदकस्मत
 बर - िर, ऊिर, बाहर - बरकरार बरवक्त
 बा - सदहत - बाकायिा बाकलम बाइज्जत
 दबला - दबना - दबलाव़िह दबलादलहा़ि
 बे - दबना - बेबुदनयाि बेईमान
 ला - दबना, नहीं - लािता लाजबाब
 सर - मुख्य - सरहि सरताज सरकार
प्रत्यय उन शब्िों को कहते हैं जो दकसी अन्द्य शब्ि के अन्द्त में लर्ाये जाते हैं। इनके लर्ाने से
शब्ि के अर्थग में दभन्द्नता या वैदशष्ट्य आ जाता है।
प्रत्यय
 धन + वान = धनवान
 क्तवद्या + वान = क्तवद्वान
 उदार + ता = उदारता
 पक्तडित + ई = पक्तडिताई
 चालाक + ई = चालाकी
 सफल + ता = सफलता
क्तवशेषण
वाक्य में संज्ञा अर्थवा सवगनाम क़ी दवशेषता बताने वाले शब्िों को क्तवशेषण कहते हैं। जैसे - काला
कु त्ता। इस वाक्य में 'काला' दवशेषण है।
क्तवशेषण के प्रकार
दवशेषण के िार प्रकार हैं:-
 र्ुणवािक दवशेषण
 संख्यावािक दवशेषण
 िररमाण-बोिक दवशेषण, और
 सावगनादमक दवशेषण।
समास
दो या दो से अक्तधक शब्दों से क्तमलकर बने हुए एक नवीन एवं सार्यक शब्द को समास कहते हैं।
जैसे - ‘रसोई के क्तलए घर’ इसे हम ‘रसोईघर’ भी कह सकते हैं।
समास के भेद
समास के छः भेद होते हैं:
 अव्ययीभाव
 तत्पुरुष
 क्तद्वर्ु
 द्वन्द्द्व
 बहुव्रीक्तह
 कमयधारय
 अव्ययीभाव समास :
दजस समास का िहला िि प्रिान हो और वह अव्यय हो उसे अव्ययीभाव समास कहते हैं। जैसे -
यर्थामदत (मदत के अनुसार), आमरण (मृत्यु कर) न् इनमें यर्था और आ अव्यय हैं।
अव्ययीभाव समास क़ी िहिान - इसमें समस्त िि अव्यय बन जाता है अर्थागत समास लर्ाने के बाि
उसका रूि कभी नहीं बिलता है। इसके सार्थ दवभदक्त दिह्न भी नहीं लर्ता। जैसे - ऊिर के समस्त
शब्ि है।
उिाहरण : आजीवन - जीवन-भर , यर्थासामर्थयग - सामर्थयग के अनुसार, यर्थाशदक्त - शदक्त के अनुसार
यर्थादवदि- दवदि के अनुसार
 तत्पुरुष समास
तत्िुरुष समास - दजस समास का उत्तरिि प्रिान हो और िूवगिि र्ौण हो उसे तत्िुरुष समास कहते हैं।
जैसे - तुलसीिासकृ त = तुलसी द्वारा कृ त (रदित)
तत्िुरुष समास के छह भेि हैं-
 कमग तत्िुरुष , उिाहरण - दर्रहकट - दर्रह को काटने वाला
 करण तत्िुरुष , उिाहरण - मनिाहा - मन से िाहा
 संप्रिान तत्िुरुष , उिाहरण - रसोईघर - रसोई के दलए घर
 अिािान तत्िुरुष , उिाहरण - िेशदनकाला - िेश से दनकाला
 संबंि तत्िुरुष , उिाहरण - र्ंर्ाजल - र्ंर्ा का जल
 अदिकरण तत्िुरुष , उिाहरण - नर्रवास - नर्र में वास
 नञ तत्िुरुष समास , उिाहरण -असभ्य- न सभ्य
 कमयधारय समास
दजस समास का उत्तरिि प्रिान हो और िूवगिि व उत्तरिि में दवशेषण-दवशेष्य अर्थवा उिमान-उिमेय
का संबंि हो वह कमगिारय समास कहलाता है।
उिाहरण - िंरमुख - िंर जैसा मुख
िेहलता - िेह रूिी लता
नीलकमल - नीला कमल
सज्जन -सत् जन
िहीबडा - िही में डूबा बडा
 क्तद्वर्ु समास
दजस समास का िूवगिि संख्यावािक दवशेषण हो उसे दद्वर्ु समास कहते हैं। इससे समूह अर्थवा
समाहार का बोि होता है
उिाहरण : नवग्रह - नौ ग्रहों का मसूह
दिलोक - तीनों लोकों का समाहार
नवराि - नौ रादियों का समूह
अठन्द्नी - आठ आनों का समूह
 द्वन्द्द्व समास
दजस समास के िोनों िि प्रिान होते हैं तर्था दवग्रह करने िर ‘और’, अर्थवा, ‘या’, एवं लर्ता है, वह द्वंद्व
समास कहलाता है।
उिाहरण : िाि-िुण्य -िाि और िुण्य
सीता-राम -सीता और राम
खरा-खोटा -खरा और खोटा
रािा-कृ ष्ण -रािा और कृ ष्ण
 बहुव्रीक्तह समास
दजस समास के िोनों िि अप्रिान हों और समस्तिि के अर्थग के अदतररक्त कोई सांके दतक अर्थग प्रिान
हो उसे बहुव्रीदह समास कहते हैं।
उिाहरण : िशानन - िश है आनन (मुख)
नीलकं ठ - नीला है कं ठ (दशव)
िीतांबर - िीले है अम्बर
अलंकार
काव्य क़ी शोभा बढाने वाले शब्िों को अलंकार कहते है। दजस प्रकार नारी के सौन्द्ियग को बढाने के
दलए आभूषण होते है,उसी प्रकार भाषा के सौन्द्ियग के उिकरणों को अलंकार कहते है। इसीदलए कहा
र्या है - 'भूषण दबना न सोहई -कदवता ,बदनता दमत्त।'
अलंकार के भेद - इसके तीन भेद होते है -
शब्िालंकार
अर्थागलंकार
दजस अलंकार में शब्िों के प्रयोर् के कारण कोई िमत्कार उिदस्र्थत हो जाता है और उन शब्िों के स्र्थान िर
समानार्थी िूसरे शब्िों के रख िेने से वह िमत्कार समाप्त हो जाता है,वह िर शब्िालंकार माना जाता है।
शब्िालंकार के प्रमुख भेि है –
 अनुप्रास
 यमक
 शलेष
शब्दालंकार:
अनुप्रास
जहााँ स्वर क़ी समानता के दबना भी वणों क़ी बार -बार आवृदत्त होती है ,वहााँ अनुप्रास अलंकार होता है ।
जन रंजन मंजन िनुज मनुज रूि सुर भूि ।
दवश्व बिर इव िृत उिर जोवत सोवत सूि । ।
 यमक
जहााँ एक ही शब्ि अदिक बार प्रयुक्त हो ,लेदकन अर्थग हर बार दभन्द्न हो ,वहााँ यमक अलंकार होता है।
उिाहरण - कनक कनक ते सौर्ुनी ,मािकता अदिकाय ।
वा खाये बौराय नर ,वा िाये बौराय। ।
 श्लेष अलंकार
जहााँ िर ऐसे शब्िों का प्रयोर् हो ,दजनसे एक से अदिक अर्थग दनलकते हो ,वहााँ िर श्लेष अलंकार होता है ।
उिाहरण - दिरजीवो जोरी जुरे क्यों न सनेह र्ंभीर ।
को घदट ये वृष भानुजा ,वे हलिर के बीर। ।
अर्ायलंकार :-
जहााँ अर्थग के माध्यम से काव्य में िमत्कार उत्िन्द्न होता है ,वहााँ अर्थागलंकार होता है । इसके प्रमुख भेि
है - -
 उपमा
 रूपक
 उत्प्रेक्षा
 अक्ततशयोक्ति
उिमा अलंकार
जहााँ िो वस्तुओंमें अन्द्तर रहते हुए भी आकृ दत एवं र्ुण क़ी समता दिखाई जाय ,वहााँ उिमा
अलंकार होता है ।
उिाहरण - सार्र -सा र्ंभीर ह्रिय हो ,
दर्री -सा ऊाँ िा हो दजसका मन।
रूपक अलंकार
जहााँ उिमेय िर उिमान का आरोि दकया जाय ,वहााँ रूिक अलंकार होता है , यानी उिमेय और
उिमान में कोई अन्द्तर न दिखाई िडे ।
उिाहरण - बीती दवभावरी जार् री।
अम्बर -िनघट में डु बों रही ,तारा -घट उषा नार्री ।'
उत्प्रेक्षा अलंकार
जहााँ उिमेय को ही उिमान मान दलया जाता है यानी अप्रस्तुत को प्रस्तुत मानकर वणगन दकया
जाता है। वहा उत्प्रेक्षा अलंकार होता है। यहााँ दभन्द्नता में अदभन्द्नता दिखाई जाती है।
उिाहरण - सदख सोहत र्ोिाल के ,उर र्ुंजन क़ी माल
बाहर सोहत मनु दिये,िावानल क़ी ज्वाल । ।
अदतशयोदक्त अलंकार
जहााँ िर लोक -सीमा का अदतक्रमण करके दकसी दवषय का वणगन होता है । वहााँ िर अदतशयोदक्त
अलंकार होता है।
उिाहरण -
हनुमान क़ी िूंछ में लर्न न िायी आदर् ।
सर्री लंका जल र्ई ,र्ये दनसािर भादर्। ।
हिंदी व्याकरण

Contenu connexe

Tendances

विशेषण एवं उनके प्रकार
विशेषण एवं उनके प्रकारविशेषण एवं उनके प्रकार
विशेषण एवं उनके प्रकारDharmesh Upadhyay
 
Adjectives HINDI
Adjectives HINDIAdjectives HINDI
Adjectives HINDISomya Tyagi
 
क्रिया विशेषण
क्रिया विशेषणक्रिया विशेषण
क्रिया विशेषणARJUN RASTOGI
 
पाठ 1 हम पंक्षी उन्मुक्त गगन के 2 (1).pptx
पाठ 1 हम पंक्षी उन्मुक्त गगन के 2 (1).pptxपाठ 1 हम पंक्षी उन्मुक्त गगन के 2 (1).pptx
पाठ 1 हम पंक्षी उन्मुक्त गगन के 2 (1).pptxPuliKesi1
 
Shabd vichar
Shabd vicharShabd vichar
Shabd vicharamrit1489
 
वर्ण-विचार
 वर्ण-विचार  वर्ण-विचार
वर्ण-विचार abcxyz415
 
Social science ppt by usha
Social science ppt by ushaSocial science ppt by usha
Social science ppt by ushaUsha Budhwar
 
Social science ppt by usha
Social science ppt by ushaSocial science ppt by usha
Social science ppt by ushaUsha Budhwar
 
सर्वनाम एवं उनके भेद (भाग -1)
सर्वनाम एवं उनके भेद (भाग -1)सर्वनाम एवं उनके भेद (भाग -1)
सर्वनाम एवं उनके भेद (भाग -1)ASHUTOSH NATH JHA
 
विज्ञान सौरमण्डल PPT BY सुरुचि पुष्पजा
विज्ञान सौरमण्डल PPT BY सुरुचि पुष्पजाविज्ञान सौरमण्डल PPT BY सुरुचि पुष्पजा
विज्ञान सौरमण्डल PPT BY सुरुचि पुष्पजाPushpaja Tiwari
 

Tendances (20)

सर्वनाम
सर्वनामसर्वनाम
सर्वनाम
 
विशेषण एवं उनके प्रकार
विशेषण एवं उनके प्रकारविशेषण एवं उनके प्रकार
विशेषण एवं उनके प्रकार
 
Adjectives HINDI
Adjectives HINDIAdjectives HINDI
Adjectives HINDI
 
क्रिया विशेषण
क्रिया विशेषणक्रिया विशेषण
क्रिया विशेषण
 
पाठ 1 हम पंक्षी उन्मुक्त गगन के 2 (1).pptx
पाठ 1 हम पंक्षी उन्मुक्त गगन के 2 (1).pptxपाठ 1 हम पंक्षी उन्मुक्त गगन के 2 (1).pptx
पाठ 1 हम पंक्षी उन्मुक्त गगन के 2 (1).pptx
 
Sangya
SangyaSangya
Sangya
 
Shabd vichar
Shabd vicharShabd vichar
Shabd vichar
 
वर्ण-विचार
 वर्ण-विचार  वर्ण-विचार
वर्ण-विचार
 
समास
समाससमास
समास
 
Hindi grammar
Hindi grammarHindi grammar
Hindi grammar
 
Ppt
PptPpt
Ppt
 
Social science ppt by usha
Social science ppt by ushaSocial science ppt by usha
Social science ppt by usha
 
Nouns in Hindi- SNGYA
Nouns in Hindi- SNGYANouns in Hindi- SNGYA
Nouns in Hindi- SNGYA
 
Social science ppt by usha
Social science ppt by ushaSocial science ppt by usha
Social science ppt by usha
 
ppt on visheshan
ppt on visheshanppt on visheshan
ppt on visheshan
 
वचन
वचनवचन
वचन
 
upsarg
upsargupsarg
upsarg
 
सर्वनाम एवं उनके भेद (भाग -1)
सर्वनाम एवं उनके भेद (भाग -1)सर्वनाम एवं उनके भेद (भाग -1)
सर्वनाम एवं उनके भेद (भाग -1)
 
pratyay
pratyaypratyay
pratyay
 
विज्ञान सौरमण्डल PPT BY सुरुचि पुष्पजा
विज्ञान सौरमण्डल PPT BY सुरुचि पुष्पजाविज्ञान सौरमण्डल PPT BY सुरुचि पुष्पजा
विज्ञान सौरमण्डल PPT BY सुरुचि पुष्पजा
 

En vedette

ομαδα2 το πορτρέτο της ελένης
ομαδα2 το πορτρέτο της ελένηςομαδα2 το πορτρέτο της ελένης
ομαδα2 το πορτρέτο της ελένηςkoudouni
 
ΤΟ ΠΟΡΤΡΕΤΟ ΤΗΣ ΕΛΕΝΗΣ-Μπλέ ομάδα
ΤΟ ΠΟΡΤΡΕΤΟ ΤΗΣ ΕΛΕΝΗΣ-Μπλέ ομάδαΤΟ ΠΟΡΤΡΕΤΟ ΤΗΣ ΕΛΕΝΗΣ-Μπλέ ομάδα
ΤΟ ΠΟΡΤΡΕΤΟ ΤΗΣ ΕΛΕΝΗΣ-Μπλέ ομάδαkoudouni
 
TEVIZZ - LeWeb 2013 Day Two Summary
TEVIZZ - LeWeb 2013 Day Two SummaryTEVIZZ - LeWeb 2013 Day Two Summary
TEVIZZ - LeWeb 2013 Day Two SummaryTevizz
 
Project proposal
Project proposalProject proposal
Project proposalJoeKing0
 
Shannon fisher textual analysis of 2 soap opera trailers
Shannon fisher textual analysis of 2 soap opera trailersShannon fisher textual analysis of 2 soap opera trailers
Shannon fisher textual analysis of 2 soap opera trailersEleanor Stapleton
 
Jak vybrat sportovní poháry
Jak vybrat sportovní poháryJak vybrat sportovní poháry
Jak vybrat sportovní poháryTomáš Novotný
 
TEVIZZ - GAME OF THRONES SEASON 4 EPISODE 1 Analysis
TEVIZZ - GAME OF THRONES SEASON 4 EPISODE 1 AnalysisTEVIZZ - GAME OF THRONES SEASON 4 EPISODE 1 Analysis
TEVIZZ - GAME OF THRONES SEASON 4 EPISODE 1 AnalysisTevizz
 
Cristian Camilo Quiroga Rodríguez
Cristian Camilo Quiroga RodríguezCristian Camilo Quiroga Rodríguez
Cristian Camilo Quiroga Rodríguezcriscaquiro
 
TEVIZZ Politiczz Analysis (NL)
TEVIZZ Politiczz Analysis (NL)TEVIZZ Politiczz Analysis (NL)
TEVIZZ Politiczz Analysis (NL)Tevizz
 
Avlis u r&d in the world
Avlis u r&d in the worldAvlis u r&d in the world
Avlis u r&d in the worldVasaru Gheorghe
 
Tiếng anh cơ bản luyện thi TOEFL
Tiếng anh cơ bản luyện thi TOEFLTiếng anh cơ bản luyện thi TOEFL
Tiếng anh cơ bản luyện thi TOEFLOanh MJ
 

En vedette (20)

ομαδα2 το πορτρέτο της ελένης
ομαδα2 το πορτρέτο της ελένηςομαδα2 το πορτρέτο της ελένης
ομαδα2 το πορτρέτο της ελένης
 
ΤΟ ΠΟΡΤΡΕΤΟ ΤΗΣ ΕΛΕΝΗΣ-Μπλέ ομάδα
ΤΟ ΠΟΡΤΡΕΤΟ ΤΗΣ ΕΛΕΝΗΣ-Μπλέ ομάδαΤΟ ΠΟΡΤΡΕΤΟ ΤΗΣ ΕΛΕΝΗΣ-Μπλέ ομάδα
ΤΟ ΠΟΡΤΡΕΤΟ ΤΗΣ ΕΛΕΝΗΣ-Μπλέ ομάδα
 
Wwwwwwww
WwwwwwwwWwwwwwww
Wwwwwwww
 
Locations
LocationsLocations
Locations
 
TEVIZZ - LeWeb 2013 Day Two Summary
TEVIZZ - LeWeb 2013 Day Two SummaryTEVIZZ - LeWeb 2013 Day Two Summary
TEVIZZ - LeWeb 2013 Day Two Summary
 
Project proposal
Project proposalProject proposal
Project proposal
 
Production Log
Production LogProduction Log
Production Log
 
Shannon fisher textual analysis of 2 soap opera trailers
Shannon fisher textual analysis of 2 soap opera trailersShannon fisher textual analysis of 2 soap opera trailers
Shannon fisher textual analysis of 2 soap opera trailers
 
Jak vybrat sportovní poháry
Jak vybrat sportovní poháryJak vybrat sportovní poháry
Jak vybrat sportovní poháry
 
Meeting Notes
Meeting Notes Meeting Notes
Meeting Notes
 
TEVIZZ - GAME OF THRONES SEASON 4 EPISODE 1 Analysis
TEVIZZ - GAME OF THRONES SEASON 4 EPISODE 1 AnalysisTEVIZZ - GAME OF THRONES SEASON 4 EPISODE 1 Analysis
TEVIZZ - GAME OF THRONES SEASON 4 EPISODE 1 Analysis
 
Storyboard Group 3
Storyboard Group 3Storyboard Group 3
Storyboard Group 3
 
Cristian Camilo Quiroga Rodríguez
Cristian Camilo Quiroga RodríguezCristian Camilo Quiroga Rodríguez
Cristian Camilo Quiroga Rodríguez
 
TEVIZZ Politiczz Analysis (NL)
TEVIZZ Politiczz Analysis (NL)TEVIZZ Politiczz Analysis (NL)
TEVIZZ Politiczz Analysis (NL)
 
Recsolar Presentation
Recsolar PresentationRecsolar Presentation
Recsolar Presentation
 
Avlis u r&d in the world
Avlis u r&d in the worldAvlis u r&d in the world
Avlis u r&d in the world
 
Tiếng anh cơ bản luyện thi TOEFL
Tiếng anh cơ bản luyện thi TOEFLTiếng anh cơ bản luyện thi TOEFL
Tiếng anh cơ bản luyện thi TOEFL
 
Elearning
ElearningElearning
Elearning
 
Manucare
ManucareManucare
Manucare
 
Jak vybrat elektrokolo?
Jak vybrat elektrokolo?Jak vybrat elektrokolo?
Jak vybrat elektrokolo?
 

Similaire à हिंदी व्याकरण

Prashant tiwari hindi ppt on
Prashant tiwari hindi ppt on Prashant tiwari hindi ppt on
Prashant tiwari hindi ppt on Prashant tiwari
 
FINAL PPT SAMAS.pptx 2021-2022.pptx
FINAL PPT SAMAS.pptx 2021-2022.pptxFINAL PPT SAMAS.pptx 2021-2022.pptx
FINAL PPT SAMAS.pptx 2021-2022.pptxsarthak937441
 
Power point Presentation on (samas).pptx
Power point Presentation on (samas).pptxPower point Presentation on (samas).pptx
Power point Presentation on (samas).pptxaditimishra11sep
 
हिन्दी व्याकरण Class 10
हिन्दी व्याकरण Class 10हिन्दी व्याकरण Class 10
हिन्दी व्याकरण Class 10Chintan Patel
 
हिन्दी व्याकरण
हिन्दी व्याकरणहिन्दी व्याकरण
हिन्दी व्याकरणChintan Patel
 
वाच्य एवं रस
 वाच्य एवं रस  वाच्य एवं रस
वाच्य एवं रस shivsundarsahoo
 
समास पीपीटी 2.pptx
समास पीपीटी 2.pptxसमास पीपीटी 2.pptx
समास पीपीटी 2.pptxkrissh304
 
hindi grammar alankar by sharada public school 10th students
hindi grammar alankar by sharada public school 10th studentshindi grammar alankar by sharada public school 10th students
hindi grammar alankar by sharada public school 10th studentsAppasaheb Naik
 
PPt on Ras Hindi grammer
PPt on Ras Hindi grammer PPt on Ras Hindi grammer
PPt on Ras Hindi grammer amarpraveen400
 
random-150623121032-lva1-app6892.pyudfet
random-150623121032-lva1-app6892.pyudfetrandom-150623121032-lva1-app6892.pyudfet
random-150623121032-lva1-app6892.pyudfetseemapathak103
 
Kavya gun ( kavyapraksh 8 ullas)
Kavya gun ( kavyapraksh 8 ullas)Kavya gun ( kavyapraksh 8 ullas)
Kavya gun ( kavyapraksh 8 ullas)Neelam Sharma
 
समास
समाससमास
समासvivekvsr
 
समास(Anupama).pptx
समास(Anupama).pptxसमास(Anupama).pptx
समास(Anupama).pptxanupamasingh5669
 

Similaire à हिंदी व्याकरण (20)

Prashant tiwari hindi ppt on
Prashant tiwari hindi ppt on Prashant tiwari hindi ppt on
Prashant tiwari hindi ppt on
 
Aalankar
Aalankar Aalankar
Aalankar
 
FINAL PPT SAMAS.pptx 2021-2022.pptx
FINAL PPT SAMAS.pptx 2021-2022.pptxFINAL PPT SAMAS.pptx 2021-2022.pptx
FINAL PPT SAMAS.pptx 2021-2022.pptx
 
Power point Presentation on (samas).pptx
Power point Presentation on (samas).pptxPower point Presentation on (samas).pptx
Power point Presentation on (samas).pptx
 
Reeshali
ReeshaliReeshali
Reeshali
 
हिन्दी व्याकरण Class 10
हिन्दी व्याकरण Class 10हिन्दी व्याकरण Class 10
हिन्दी व्याकरण Class 10
 
हिन्दी व्याकरण
हिन्दी व्याकरणहिन्दी व्याकरण
हिन्दी व्याकरण
 
Hindi रस
Hindi रसHindi रस
Hindi रस
 
वाच्य एवं रस
 वाच्य एवं रस  वाच्य एवं रस
वाच्य एवं रस
 
समास पीपीटी 2.pptx
समास पीपीटी 2.pptxसमास पीपीटी 2.pptx
समास पीपीटी 2.pptx
 
Days of the Week.pptx
Days of the Week.pptxDays of the Week.pptx
Days of the Week.pptx
 
hindi grammar alankar by sharada public school 10th students
hindi grammar alankar by sharada public school 10th studentshindi grammar alankar by sharada public school 10th students
hindi grammar alankar by sharada public school 10th students
 
PPt on Ras Hindi grammer
PPt on Ras Hindi grammer PPt on Ras Hindi grammer
PPt on Ras Hindi grammer
 
Samas
SamasSamas
Samas
 
random-150623121032-lva1-app6892.pyudfet
random-150623121032-lva1-app6892.pyudfetrandom-150623121032-lva1-app6892.pyudfet
random-150623121032-lva1-app6892.pyudfet
 
Kavya gun ( kavyapraksh 8 ullas)
Kavya gun ( kavyapraksh 8 ullas)Kavya gun ( kavyapraksh 8 ullas)
Kavya gun ( kavyapraksh 8 ullas)
 
samas
samassamas
samas
 
समास
समाससमास
समास
 
समास(Anupama).pptx
समास(Anupama).pptxसमास(Anupama).pptx
समास(Anupama).pptx
 
ALANKAR.pptx
ALANKAR.pptxALANKAR.pptx
ALANKAR.pptx
 

Plus de Advetya Pillai

Civilising the Natives , educating the nation
Civilising the Natives , educating the nationCivilising the Natives , educating the nation
Civilising the Natives , educating the nationAdvetya Pillai
 
Proud to be an indian
 Proud to be an indian Proud to be an indian
Proud to be an indianAdvetya Pillai
 
How to decide your furure ?
How to decide your furure ?How to decide your furure ?
How to decide your furure ?Advetya Pillai
 
Polynomials (mathematics)
Polynomials (mathematics)Polynomials (mathematics)
Polynomials (mathematics)Advetya Pillai
 
The story of village Palampur /Economics /class IX
The story of village Palampur /Economics /class IXThe story of village Palampur /Economics /class IX
The story of village Palampur /Economics /class IXAdvetya Pillai
 
From Trade To Territory (social science)
From Trade To Territory (social science)From Trade To Territory (social science)
From Trade To Territory (social science)Advetya Pillai
 
Crop production and management
Crop production and managementCrop production and management
Crop production and managementAdvetya Pillai
 

Plus de Advetya Pillai (10)

Data handling
Data handlingData handling
Data handling
 
Civilising the Natives , educating the nation
Civilising the Natives , educating the nationCivilising the Natives , educating the nation
Civilising the Natives , educating the nation
 
Proud to be an indian
 Proud to be an indian Proud to be an indian
Proud to be an indian
 
How to decide your furure ?
How to decide your furure ?How to decide your furure ?
How to decide your furure ?
 
Polynomials (mathematics)
Polynomials (mathematics)Polynomials (mathematics)
Polynomials (mathematics)
 
adventurous sports
adventurous sports adventurous sports
adventurous sports
 
Climate / class IX .
Climate / class IX .Climate / class IX .
Climate / class IX .
 
The story of village Palampur /Economics /class IX
The story of village Palampur /Economics /class IXThe story of village Palampur /Economics /class IX
The story of village Palampur /Economics /class IX
 
From Trade To Territory (social science)
From Trade To Territory (social science)From Trade To Territory (social science)
From Trade To Territory (social science)
 
Crop production and management
Crop production and managementCrop production and management
Crop production and management
 

हिंदी व्याकरण

  • 1. नाम : आदित्य ए दिल्लै कक्षा : नौवीं 'ब’ रोल : 51 के न्द्रीय दवद्यालय कोयम्बटूर
  • 2. संज्ञा संज्ञा के भेद-  व्यक्तिवाचक: राम, भारत, सूयय आक्तद।  जाक्ततवाचक: बकरी, पहाड़, कं प्यूटर आक्तद।  भाववाचक : ममता, बुढापा आक्तद।
  • 3. संस्कृ त एवं संस्कृ त से उत्िन्द्न भाषाओंमें उस अव्यय या शब्ि को उिसर्ग कहते हैं जो कु छ शब्िों के आरंभ में लर्कर उनके अर्थों का दवस्तार करता अर्थवा उनमें कोई दवशेषता उत्िन्द्न करता है। उिसर्ग = उिसृज् (त्यार्) + घञ्। जैसे - अ, अनु, अि, दव, आदि उिसर्ग है। उपसर्य उपसर्य और उनके अर्यबोध  अदत-(आदिक्य) अदतशय, अदतरेक;  अदि-(मुख्य) अदििदत, अध्यक्ष  अदि-(वर) अध्ययन, अध्यािन  अनु-(मार्ुन) अनुक्रम, अनुताि, अनुज;  अनु-(प्रमाणें) अनुकरण, अनुमोिन.  अि-(खालीं येणें) अिकषग, अिमान;  अि-(दवरुद्ध होणें) अिकार, अिजय.  अदि-(आवरण) अदििान = अच्छािन  अदभ-(अदिक) अदभनंिन, अदभलाि  अदभ-(जवळ) अदभमुख, अदभनय  अदभ-(िुढें) अभ्युत्र्थान, अभ्युिय.  अव-(खालीं) अवर्णना, अवतरण;  अव-(अभाव, दवरूद्धता) अवकृ िा, अवर्ुण.  आ-(िासून, ियंत) आकं ठ, आजन्द्म;  दन-(अत्यंत) दनमग्न, दनबंि  दन-(नकार) दनकामी, दनजोर.  दनर्-(अभाव) दनरंजन, दनराषा उदूय उपसर्य  अल - दनदचित, अदन्द्तम – अलदविा  कम - हीन, र्थोडा, अल्ि - कमदसन, कमअक्ल,  खुश - श्रेष्ठता के अर्थग में - खुशबू, खुशनसीब, खुशदमजाज  गैर - दनषेि - गैरहाद़िर गैरकानूनी  िर - मध्य में - िरम्यान िरअसल  ना - अभाव - नामुमदकन नामुराि नाकाम  फ़ी - प्रदत - फ़ीसिी फ़ीआिमी  ब - से, के , में, अनुसार - बनाम बिस्तूर  बि - बुरा - बिनाम बिमाश बिदकस्मत  बर - िर, ऊिर, बाहर - बरकरार बरवक्त  बा - सदहत - बाकायिा बाकलम बाइज्जत  दबला - दबना - दबलाव़िह दबलादलहा़ि  बे - दबना - बेबुदनयाि बेईमान  ला - दबना, नहीं - लािता लाजबाब  सर - मुख्य - सरहि सरताज सरकार
  • 4. प्रत्यय उन शब्िों को कहते हैं जो दकसी अन्द्य शब्ि के अन्द्त में लर्ाये जाते हैं। इनके लर्ाने से शब्ि के अर्थग में दभन्द्नता या वैदशष्ट्य आ जाता है। प्रत्यय  धन + वान = धनवान  क्तवद्या + वान = क्तवद्वान  उदार + ता = उदारता  पक्तडित + ई = पक्तडिताई  चालाक + ई = चालाकी  सफल + ता = सफलता क्तवशेषण वाक्य में संज्ञा अर्थवा सवगनाम क़ी दवशेषता बताने वाले शब्िों को क्तवशेषण कहते हैं। जैसे - काला कु त्ता। इस वाक्य में 'काला' दवशेषण है। क्तवशेषण के प्रकार दवशेषण के िार प्रकार हैं:-  र्ुणवािक दवशेषण  संख्यावािक दवशेषण  िररमाण-बोिक दवशेषण, और  सावगनादमक दवशेषण।
  • 5. समास दो या दो से अक्तधक शब्दों से क्तमलकर बने हुए एक नवीन एवं सार्यक शब्द को समास कहते हैं। जैसे - ‘रसोई के क्तलए घर’ इसे हम ‘रसोईघर’ भी कह सकते हैं। समास के भेद समास के छः भेद होते हैं:  अव्ययीभाव  तत्पुरुष  क्तद्वर्ु  द्वन्द्द्व  बहुव्रीक्तह  कमयधारय  अव्ययीभाव समास : दजस समास का िहला िि प्रिान हो और वह अव्यय हो उसे अव्ययीभाव समास कहते हैं। जैसे - यर्थामदत (मदत के अनुसार), आमरण (मृत्यु कर) न् इनमें यर्था और आ अव्यय हैं। अव्ययीभाव समास क़ी िहिान - इसमें समस्त िि अव्यय बन जाता है अर्थागत समास लर्ाने के बाि उसका रूि कभी नहीं बिलता है। इसके सार्थ दवभदक्त दिह्न भी नहीं लर्ता। जैसे - ऊिर के समस्त शब्ि है। उिाहरण : आजीवन - जीवन-भर , यर्थासामर्थयग - सामर्थयग के अनुसार, यर्थाशदक्त - शदक्त के अनुसार यर्थादवदि- दवदि के अनुसार
  • 6.  तत्पुरुष समास तत्िुरुष समास - दजस समास का उत्तरिि प्रिान हो और िूवगिि र्ौण हो उसे तत्िुरुष समास कहते हैं। जैसे - तुलसीिासकृ त = तुलसी द्वारा कृ त (रदित) तत्िुरुष समास के छह भेि हैं-  कमग तत्िुरुष , उिाहरण - दर्रहकट - दर्रह को काटने वाला  करण तत्िुरुष , उिाहरण - मनिाहा - मन से िाहा  संप्रिान तत्िुरुष , उिाहरण - रसोईघर - रसोई के दलए घर  अिािान तत्िुरुष , उिाहरण - िेशदनकाला - िेश से दनकाला  संबंि तत्िुरुष , उिाहरण - र्ंर्ाजल - र्ंर्ा का जल  अदिकरण तत्िुरुष , उिाहरण - नर्रवास - नर्र में वास  नञ तत्िुरुष समास , उिाहरण -असभ्य- न सभ्य  कमयधारय समास दजस समास का उत्तरिि प्रिान हो और िूवगिि व उत्तरिि में दवशेषण-दवशेष्य अर्थवा उिमान-उिमेय का संबंि हो वह कमगिारय समास कहलाता है। उिाहरण - िंरमुख - िंर जैसा मुख िेहलता - िेह रूिी लता नीलकमल - नीला कमल सज्जन -सत् जन िहीबडा - िही में डूबा बडा
  • 7.  क्तद्वर्ु समास दजस समास का िूवगिि संख्यावािक दवशेषण हो उसे दद्वर्ु समास कहते हैं। इससे समूह अर्थवा समाहार का बोि होता है उिाहरण : नवग्रह - नौ ग्रहों का मसूह दिलोक - तीनों लोकों का समाहार नवराि - नौ रादियों का समूह अठन्द्नी - आठ आनों का समूह  द्वन्द्द्व समास दजस समास के िोनों िि प्रिान होते हैं तर्था दवग्रह करने िर ‘और’, अर्थवा, ‘या’, एवं लर्ता है, वह द्वंद्व समास कहलाता है। उिाहरण : िाि-िुण्य -िाि और िुण्य सीता-राम -सीता और राम खरा-खोटा -खरा और खोटा रािा-कृ ष्ण -रािा और कृ ष्ण  बहुव्रीक्तह समास दजस समास के िोनों िि अप्रिान हों और समस्तिि के अर्थग के अदतररक्त कोई सांके दतक अर्थग प्रिान हो उसे बहुव्रीदह समास कहते हैं। उिाहरण : िशानन - िश है आनन (मुख) नीलकं ठ - नीला है कं ठ (दशव) िीतांबर - िीले है अम्बर
  • 8. अलंकार काव्य क़ी शोभा बढाने वाले शब्िों को अलंकार कहते है। दजस प्रकार नारी के सौन्द्ियग को बढाने के दलए आभूषण होते है,उसी प्रकार भाषा के सौन्द्ियग के उिकरणों को अलंकार कहते है। इसीदलए कहा र्या है - 'भूषण दबना न सोहई -कदवता ,बदनता दमत्त।' अलंकार के भेद - इसके तीन भेद होते है - शब्िालंकार अर्थागलंकार दजस अलंकार में शब्िों के प्रयोर् के कारण कोई िमत्कार उिदस्र्थत हो जाता है और उन शब्िों के स्र्थान िर समानार्थी िूसरे शब्िों के रख िेने से वह िमत्कार समाप्त हो जाता है,वह िर शब्िालंकार माना जाता है। शब्िालंकार के प्रमुख भेि है –  अनुप्रास  यमक  शलेष शब्दालंकार: अनुप्रास जहााँ स्वर क़ी समानता के दबना भी वणों क़ी बार -बार आवृदत्त होती है ,वहााँ अनुप्रास अलंकार होता है । जन रंजन मंजन िनुज मनुज रूि सुर भूि । दवश्व बिर इव िृत उिर जोवत सोवत सूि । ।
  • 9.  यमक जहााँ एक ही शब्ि अदिक बार प्रयुक्त हो ,लेदकन अर्थग हर बार दभन्द्न हो ,वहााँ यमक अलंकार होता है। उिाहरण - कनक कनक ते सौर्ुनी ,मािकता अदिकाय । वा खाये बौराय नर ,वा िाये बौराय। ।  श्लेष अलंकार जहााँ िर ऐसे शब्िों का प्रयोर् हो ,दजनसे एक से अदिक अर्थग दनलकते हो ,वहााँ िर श्लेष अलंकार होता है । उिाहरण - दिरजीवो जोरी जुरे क्यों न सनेह र्ंभीर । को घदट ये वृष भानुजा ,वे हलिर के बीर। । अर्ायलंकार :- जहााँ अर्थग के माध्यम से काव्य में िमत्कार उत्िन्द्न होता है ,वहााँ अर्थागलंकार होता है । इसके प्रमुख भेि है - -  उपमा  रूपक  उत्प्रेक्षा  अक्ततशयोक्ति
  • 10. उिमा अलंकार जहााँ िो वस्तुओंमें अन्द्तर रहते हुए भी आकृ दत एवं र्ुण क़ी समता दिखाई जाय ,वहााँ उिमा अलंकार होता है । उिाहरण - सार्र -सा र्ंभीर ह्रिय हो , दर्री -सा ऊाँ िा हो दजसका मन। रूपक अलंकार जहााँ उिमेय िर उिमान का आरोि दकया जाय ,वहााँ रूिक अलंकार होता है , यानी उिमेय और उिमान में कोई अन्द्तर न दिखाई िडे । उिाहरण - बीती दवभावरी जार् री। अम्बर -िनघट में डु बों रही ,तारा -घट उषा नार्री ।' उत्प्रेक्षा अलंकार जहााँ उिमेय को ही उिमान मान दलया जाता है यानी अप्रस्तुत को प्रस्तुत मानकर वणगन दकया जाता है। वहा उत्प्रेक्षा अलंकार होता है। यहााँ दभन्द्नता में अदभन्द्नता दिखाई जाती है। उिाहरण - सदख सोहत र्ोिाल के ,उर र्ुंजन क़ी माल बाहर सोहत मनु दिये,िावानल क़ी ज्वाल । ।
  • 11. अदतशयोदक्त अलंकार जहााँ िर लोक -सीमा का अदतक्रमण करके दकसी दवषय का वणगन होता है । वहााँ िर अदतशयोदक्त अलंकार होता है। उिाहरण - हनुमान क़ी िूंछ में लर्न न िायी आदर् । सर्री लंका जल र्ई ,र्ये दनसािर भादर्। ।