Ce diaporama a bien été signalé.
Le téléchargement de votre SlideShare est en cours. ×

Pranav sadhana omkar

Publicité
Publicité
Publicité
Publicité
Publicité
Publicité
Publicité
Publicité
Publicité
Publicité
Publicité
Publicité
Prochain SlideShare
Vividh angi vividh yog
Vividh angi vividh yog
Chargement dans…3
×

Consultez-les par la suite

1 sur 16 Publicité
Publicité

Plus De Contenu Connexe

Diaporamas pour vous (20)

Publicité

Plus récents (13)

Publicité

Pranav sadhana omkar

  1. 1. प्रप्रप्रणणणववव सससाााधधधनननााा
  2. 2. ओम् प्रार्थना ओकंारं ब ंदुसयंुक् तं बनत्यं ध्यायबतत योबिन: । कामद ंमोक्षद ंचैव ओकंाराय नमो नम: ।।
  3. 3. ओम् की उत्पबि क. ब ि ैंि थ्योरी ख. ओम् का जतम
  4. 4. प्रणव क. ओम् के अतय नाम ख. तस्य वाचकः प्रणवः ग. उद् िीर्
  5. 5. ओम् रूप – िणेश रूप ॐ अकार चरणयुिल | उकार उदर बवशाल || मकार महामण्डल | मस्तकाकारे ||
  6. 6. ओम् का प्रधान रूप - अ उ म क. बिमूबतथ - ब्रह्मा - बवष्णु - महेश ख. बिकाल - भूत - वतथमान - भबवष्य ग. बिलोक - भू - भुवः - स्वः घ. बििुण - तम - रज - सत्व ङ. तीन अवस्र्ा - जािृत - स्वप्न – सुषुप्त (तुरीया)
  7. 7. ओम् का महत्त्व क. मंि की शबक् त ओम ख. आध्याबत्मक महत्त्व
  8. 8. बवबभतन भाषा में बवबभतन बलबप Devnagari*Jain*Telugu/Kannada * Tamil * Oriya/Assamese/Bengali Vedic script Malayalam Sikhism Balinese Sidhham Tibetan
  9. 9. प्रणवोच्चार क. संततं तैल धारैव दीर्थर्ंटा बननाद् वत | दीर्ं प्रणवमुच्चायथ िंभीरं शंखनाद् वत || ख. पद्धबत ग. प्रभाव
  10. 10. ओम्कार जप साधना क. वाबचक ख. उपांशु ग. मानबसक घ. अजपाजप
  11. 11. ओम्कार के लाभ क. शारीररक स्वास्थ्य ख. मानबसक स्वास्थ्य ि. उपचारात्मक दृष्टिकोण
  12. 12. शारीररक स्वास्थ्य • मन की शांत बस्र्बत प्राप्त होती है | • अनुकं पी परानुकं पी स्वायत संस्र्ानर पर प्रभाव | • नाडीयां शुद्ध होती है | • त्वचा सबिय होती है | • अंतःस्त्रावी ग्रंबर्यर पर प्रभाव | • प्राणायाम का एक प्रकार | • स्वरयंि का स्वास्थ्य अच्छा होता है |
  13. 13. मानबसक स्वास्थ्य • मन की शांत बस्र्ती प्राप् त होती है| • एकाग्रता , स्मरणशबक् त ढती है| • आत्मबवश्वास , बनणथयशबक् त का बवकास | • मन समाधानी और आनंदी नता है|
  14. 14. उपचारात्मक दृष्टिकोण • ब्लडप्रेशर बनयंबित | • दमा का रोि | • मानबसक तनाव | • बनद्रादोष , वाणीदोष | • डायब बटस , हृदयरोि , के तसर |
  15. 15. सारांश धतयवाद

×